आतंकवाद पर कविता का पॉडकास्ट “लगता नहीं के हम इंसान है”

आतंकवाद पर कविता का पॉडकास्ट

आतंकवाद पर कविता का पॉडकास्ट “लगता नहीं के हम इंसान है” जी हाँ दोस्तों हमारी आज की इस पोस्ट ऐसे इन्सानों के बारे में है जो कि आतंकवाद के चक्कर में फंस जाते हैं और अपनी इंसानियत भूल जाते हैं |

आतंकवाद पर कविता का पॉडकास्ट

लगता नहीं के हम इंसान है
बनाई नई अब तो पहचान है
ना दर्द दिखता ना हैं चीख सुनते
बस चंद रूपियों के खातिर ही बिकते
क्या हम अपने पुरखों की ही पहचान हैं
क्या हम अपने पुरखों की ही पहचान हैं
हाँ ,लगता नहीं के हम इंसान है
नशा हम करें हैं दगा भी करें
ना सुनते कभी कोई कुछ भी कहे
हैवानियत से ही आजकल जान पहचान है
हैवानियत से ही आजकल जान पहचान है
हाँ ,लगता नहीं के हम इंसान है
अब जेबों में रखते कई गोलियां
खेलते खून की हैं हर दिन होलियां
नहीं याद भी रहा कि कब से घर ना गए
नहीं याद भी रहा कि कब से घर ना गए
हाँ ,लगता नहीं के हम इंसान है
जो जीवन में हमने चुना रास्ता
दिखता आसान होता है महंगा बड़ा
मिलती मर के भी नहीं कोई पहचान है
मिलती मर के भी नहीं कोई पहचान है
हाँ ,लगता नहीं के हम इंसान है
हाँ ,लगता नहीं के हम इंसान है
मित्रों आपको ये पॉडकास्ट अच्छा लगे तो इसे शेयर भी जरूर करें |यह भी देखें-
* भगवान गणेश का भजन
* सुविचार पढ़ें

You May Also Like

Editor sabkamanoranjan

About the Author: Editor sabkamanoranjan

dosto sabkamnaoranjan.in ek hindi poem ki website cum blog he .jisme aapko motivational ,funny,sad,emotional sabhi tarah ki hindi poems padhne ko milengi.sabkamanoranjan me hindi shayri ,hindi wishes,suvichaar,hindi geet ka bhi anutha samavesh he aur bhi bahut kuch content aane wale samay me site me joda jayega.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *