मिर्ज़ा ग़ालिब के कुछ मशहूर शेर

मिर्ज़ा ग़ालिब के कुछ मशहूर शेर

दोस्तों हमारे आज के इस मिर्ज़ा ग़ालिब के कुछ मशहूर शेर पोस्ट में हम मिर्ज़ा असद-उल्लाह बेग ख़ां उर्फ “ग़ालिब” जो कि उर्दू और फारसी के मशहूर शायर थे उनके कुछ चर्चित शेर लेकर आये हैं –

रगों में दौड़ते फिरने के हम नहीं क़ायल
जब आँख ही से न टपका तो फिर लहू क्या है

हर एक बात पे कहते हो तुम कि तू क्या है
तुम्हीं कहो कि ये अंदाज़-ए-गुफ़्तगू क्या है
मिर्ज़ा ग़ालिब के कुछ मशहूर शेर

यही है आज़माना तो सताना किसको कहते हैं,
अदू के हो लिए जब तुम तो मेरा इम्तहां क्यों हो

हमको मालूम है जन्नत की हक़ीक़त लेकिन
दिल के खुश रखने को ‘ग़ालिब’ ये ख़याल अच्छा है

उनको देखे से जो आ जाती है मुँह पर रौनक
वो समझते हैं के बीमार का हाल अच्छा है
मिर्ज़ा ग़ालिब के कुछ मशहूर शेर

इश्क़ पर जोर नहीं है ये वो आतिश ‘ग़ालिब’
कि लगाये न लगे और बुझाये न बुझे
मिर्ज़ा ग़ालिब के कुछ मशहूर शेर

हुई मुद्दत कि ‘ग़ालिब’ मर गया पर याद आता है,
वो हर इक बात पर कहना कि यूँ होता तो क्या होता !

रही न ताक़त-ए-गुफ़्तार और अगर हो भी
तो किस उम्मीद पे कहिये के आरज़ू क्या है
मिर्ज़ा ग़ालिब के कुछ मशहूर शेर

वो चीज़ जिसके लिये हमको हो बहिश्त अज़ीज़
सिवाए बादा-ए-गुल्फ़ाम-ए-मुश्कबू क्या है

वो आए घर में हमारे, खुदा की क़ुदरत हैं!
कभी हम उनको, कभी अपने घर को देखते हैंमिर्ज़ा ग़ालिब के कुछ मशहूर शेर

बना है शह का मुसाहिब, फिरे है इतराता
वगर्ना शहर में “ग़ालिब” की आबरू क्या है

दोस्तों अगर आपको हमारी ये पोस्ट पसंद आये तो इसे शेयर करे | आप ये भी देख सकते हैं-
* सावन पर कविता
* दादा दादी पर कविता

Editor sabkamanoranjan

About the Author: Editor sabkamanoranjan

दोस्तों आपका हमारी website sabkamanoranjan .in पर स्वागत है | इस website पर आपको information और entertainment दोनों एक ही जगह और एक नए अंदाज़ में मिलेंगे जो आपका भरपूर मनोरंजन करेंगे | यह website हर age group के लिए है | इस website की categories ये हैं :- Hindi poem ,baal kavita ,shayri , Hindi podcast ,Hindi song ,suvichar ,blogging ,online earning etc .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *